Sahara Yojana 2024 के अंतर्गत लोगों को मिलेंगे 48000 रुपए, सहारा योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज, ऑनलाइन आवेदन पत्र

Sahara Yojana 2024: हमारे देश में कई सारे लोग आज भी ऐसे हैं जिनकी आर्थिक स्थिति इतनी कमजोर है कि उनके परिवार में यदि किसी व्यक्ति को कोई गंभीर बीमारी हो जाए तो वे उसका इलाज तक नहीं कर पाते। हालांकि केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत योजना से निशुल्क स्वास्थ्य सेवा का लाभ लगभग देश के हर नागरिक को उपलब्ध करवा दिया है परंतु आयुष्मान भारत योना के अंतर्गत कुछ ऐसी विशेष बीमारियां होती हैं जो कवर नहीं की जाती।

ऐसे में हिमाचल प्रदेश सरकार ने इन गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हिमाचल निवासियों को सुरक्षा प्रदान करने हेतु हिमाचल प्रदेश Sahara Yojana जैसी महत्वपूर्ण योजना का गठन किया है।

Himachal Pradesh Sahara Yojana 2024

हिमाचल प्रदेश सहारा योजना के अंतर्गत हिमाचल प्रदेश के निवासी गंभीर बीमारियों से निपटने के लिए आर्थिक सहायता प्राप्त कर सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी को बीमारी से मुक्ति पाने के लिए तथा उसके इलाज के लिए विभिन्न प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई जाती है । Sahara Yojana के अंतर्गत लाभार्थी को आर्थिक सहायता दी जाती है जिससे वह जटिल से जटिल बीमारी का इलाज करवा सके।

हिमाचल प्रदेश सहारा योजना के अंतर्गत प्रदेश के बीमार और गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्तियों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाती है । Sahara Yojana के अंतर्गत पैरालिसिस, पार्किंसन, कैंर ,मस्कुलर डिस्ट्रॉफी ,हीमोफीलिया, थैलेसीमिया, रिनल फैलियर जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज करवाया जा सकता है।

2024 में बढाई गई  Sahara Yojana योगदान राशि

 Sahara Yojana के अंतर्गत लाभार्थी को ₹3000 प्रतिमाह दिए जाते हैं। अर्थात वार्षिक रूप से 48000 की आर्थिक सहायता लाभार्थी को दी जाती है जिससे वह इस गंभीर बीमारी का इलाज करवा सके।  हालांकि जब इस इलाज योजना को शुरू किया गया था तब शुरुआत में केवल ₹2000 प्रतिमाह दिए जाते थे परंतु वर्ष 2024 के अंतर्गत इस योजना के बज को बढ़ा दिया गया है और अब लाभार्थी को ₹3000 प्रति महान सहायता के रूप में दिए जाते हैं।

UKSSSC Group C Recruitment 2024: समूह ग की सीधी भर्ती, 1544 Posts, लास्ट डेट 18 अप्रैल 2024

Canada Grocery Rebate 2024 : Check Payment Date & Amount, @canada.ca

हिमाचल प्रदेश सहारा योजना के अंतर्गत कौन सी बीमारियां कवर की जाती है?

 हिमाचल प्रदेश सहारा योजना के अंतर्गत गंभीर से गंभीर बीमारियां जैसे कि

  •  पैरालिसि
  •  कैंसर (सर्वाइकल, स्तन, ब्लड)
  •  पार्किंसन
  •  मस्कुलर डिस्ट्रॉफी
  •  थैलेसीमिया
  •  हीमोफीलिया
  • रिनल फैलियर
  •  लीवर फेलियर जैसी गंभीबीमारियां कवर की जाती है।

Himachal Pradesh Sahara Yojana का मुख्य उद्देश्य ?

  •  हिमाचल प्रदेश सहारा योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के लोगों को गंभीर बीमारी से निदान हेतु वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाना है।
  •  इस योजना के अंतर्गत ऐसी गंभीर बीमारियों को कवर किया जाता है जिनके इलाज पर वार्षिक रूप से 30 से ₹40000 से ज्यादा खर्चा आ जाता है ।
  •  यह बीमारियां आमतौर पर आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत कवर नहीं की जाती।
  •  ऐसे में गरीब परिवार के लोग जब ऐसी बीमारियों के चपेट में आते हैं तो वह बिना इलाज के ही दुखद जीवन व्यतीत करते हैं और मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं।
  • इसीलिए हिमाचल प्रदेश सकार ने इस बीमारी से निपटने के लिए प्रदेश की जनता को ₹3000 आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है ,जिससे प्रदेश की जनता इस प्रकार की गंभीर बीमारी से निदान प्राप्त कर सके।

हिमाचल प्रदेश सहारा योजना के मुख्य तथ्य

  • हिमाचल प्रदेश सहारा योना के अंतर्गत प्रत्येक लाभार्थी को ₹3000 मासिक रूप से दिए जाते हैं ।
  • इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक चरण में 6000 से ज्यादा रोगियों को लाभान्वित करने का लक्षण निर्धारित किया जाता है।
  • इस योजना के अंतर्गत संपूर्ण हिमाचल प्रदेश से 14 बड़े अस्पतालों को शामिल किया गया है जिसमें इंदिरा गांधी स्वास्थ्य अस्पताल जैसा सबसे बड़ा अस्पताल भी शामिल है।
  • इस योजना में बीमारियों में निपटने के लिए रोगियों को आर्थिक सहायता राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराई जाती है ।
  • वहीं स्तन कैंसर और सर्वाइकल कैंसर जैसी बीमारियों के दौरान रोगियों को इलाज के लिए मोबाइल डायग्नोस्टिक वैन की सुविधा भी दी जाती है।
  • वहीं बड़े से बड़े राजकीय मेडिकल कॉलेज में इन बीमारियों को रोकने के लिए तथा जागरूकता प्रदान करने के लिए कैं भी लगाए जाते हैं ।
  • इसके साथ ही यदि बीमार को अस्पताल से डिस्चार्ज मिल जाता है तो बीमार को ऑनलाइन मॉनिटरिंग की सुविधा भी इस योजना के अंतर्गत दी जाती है ।
  • इस योजना में पैरालिसिस, पार्किंसन, कैंसर ,मस्कुलर डिस्ट्रॉफी ,हीमोफीलिया ,थैलेसीमिया रिनल फैलियर लीवर फेलियर जैसी बड़ी-बड़ी गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए रोगियों की सहायता की जाती है।
  • योजना में रोगियों के अकाउंट में डीबीटी के माध्यम से लाभ राशि ट्रांसफ कर दी जाती है जिससे रोगी बिना किसी झंझट के अस्पताल से सहायता प्राप्त कर सके।

Himachal Pradesh Sahara Yojana के अंतर्गत पात्रता मापदंड

 हिमाचल प्रदेश सहारा योजना का लाभार्थी बनने के लिए आवेदक को निम्नलिखित पात्रता मापदण्ड जांचने  होंगे

  • आवेदक हिमाचल प्रदेश का मूल निवासी होना आवश्यक है ।
  • आर्थिक रूप से कमजोर तथा गरीबी रेखा से नीचे वाले र्ग के लोग इस योजना के अंतर्गत आवेदन कर सकते हैं।
  • इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने वाले आवेदक की वार्षिक आय चार लाख रुपए से कम होनी आवश्यक है ।
  • इस योजना के लिए आवेदन करने वाले व्यक्ति के पास में बीमारी से जुड़े सारे दस्तावेज तथा सारी रिपोर्ट होनी आवश्यक है ।

UGC NET Notification 2024 [APRIL] : Check Application Form, Eligibility, Exam Date [10-21 June], @ugcnet.nta.nic.in

PM Yashasvi Scholarship 2024: विद्यार्थियों को 75,000 से 1,25,000 तक की छात्रवृत्ति, भरें ऑनलाइन फॉर्म (Applications open)

Sahara Yojana के लिए आवश्यक दस्तावेज

इस योजना में आवेदन करने के लिए आवेदक के पास में निम्नलिखित दस्तावेज होने जरूरी है

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का जन्म प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • बीमारी से जुड़े सारे रिपोर्ट
  • आवेदक का जाति प्रमाण पत्र
  • आवेदक का राशन कार्ड
  • आवेदन का बैंक खाता विवरण
  • और पासपोर्ट साइज फोटो

हिमाचल प्रदेश सहारा योजना में आवेदन किस प्रकार करें

  • हिमाचल प्रदेश सहारा योजना की पूरी प्रक्रिया ऑफलाइन ही रखी गई है।
  • जैसा कि हमने आपको बताया इस योजना में आवेदन करने के लिए उम्मीदवार के पास में सारी मेडिकल रिपोर्ट तथा आवश्यक दस्तावेज होना जरूरी है इसलिए दस्तावेज सत्यापन के बाद ही आवेदक को इस योजना का लाभार्थी घोषित किया जाता है।
  • योजना में आवेदन करने के लिए आवेदन को आंगबाड़ी कार्यकर्ता ,आशा कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर आवेदन प्रक्रिया पूरी करनी पड़ेगी।
  • आवेदक को नजदीकी आंगनबाड़ी या आशा कार्यकर्ता से मिलकर इस योजना के बारे में विशेष जानकारी प्राप्त करनी पड़ती है और योजना के अंतर्गत आवेदन प्रक्रिया पूरी करनी पड़ती है।
  • सारी प्रक्रिया आशा कार्यकर्ता अथवा आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा पूरी करवाई जाती है जिसमें आवेदक को कहीं भी जाने की जरूरत नहीं होती ।
  • इसके अलावा यदि आवेदक ऑनलाइन माध्यम से रजिस्ट्रेशन करना चाहता है तो आवेदक को संपूर्ण दस्तावेज और आवेदन फॉर्म ऑनलाइन माध्यम से भरने पड़ेंगे।
  • लेकिन फिर भी आवेदक को आशा कार्यकर्ता तथा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से मिलकर सत्यापन की प्रक्रिया पूरी करनी पड़ती है ।
  • इसके पश्चात ही सरकार संपूर्ण सत्यापन प्रक्रिया पूरी होने के पश्चात लाभार्थी का चयन करती है और लाभार्थी को आर्थिक सुविधा उपलब्ध कराई जाती है।

निष्कर्ष : Sahara Yojana

इस प्रकार वे सभी हिमाचल प्रदेश निवासी जो गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं और आर्थिक सहायता प्राप्त करना चाहते हैं वह हिमाचल प्रदेश सहारा योजना के अंतर्गत आवेदन प्रक्रिया पूरी कर इस योजना का लाभ उठा सकते हैं और गंभीर से गंभीर बीमारी से लड़ने के लिए सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्राप्त कर सकते हैं।